भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तू ही ख्व़ाब तू ही ख़याल है / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:16, 7 दिसम्बर 2011 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सिया सचदेव }} {{KKCatGhazal}} <poem> तू ही ख्व़ाब ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू ही ख्व़ाब तू ही ख़याल है
तू जवाब तू ही सवाल है

तेरा साथ कैसे मैं छोड़ दूं
मेरी बन्दगी का का सवाल है

तू जो दूर हो तो मैं क्या करूं
मुझे सांस लेना मुहाल है

तेरा रूप जैसे के चाँद हो
के तू चांदनी की मिसाल है

न किसी का ऐसा हसीन रुख
न किसी का ऐसा जमाल है

कभी आ के इतना तो देख ले
तेरे बिन "सिया" का जो हाल है