भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेजी ग्रोवर / परिचय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:12, 5 अक्टूबर 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेजी ग्रोवर


जन्म

1955 जन्म स्थान पठानकोट, पंजाब, भारत

गतिविधियाँ

कवि, कथाकार, चित्रकार, अनुवादक। पाँच कविता सँग्रह, एक कहानी सँग्रह, एक उपन्यास, एक निबन्ध सँग्रह और २०१७ में लोककथाओं के घरेलू और बाह्य संसार पर एक विवेचनात्मक पुस्तक के अलावा आधुनिक नोर्वीजी, स्वीडी, फ़्रांसीसी, लात्वी साहित्य से तेजी के तेरह पुस्तकाकार अनुवाद मुख्यतः वाणी प्रकाशन, दिल्ली, द्वारा प्रकाशित हैं। भारतभूषण अग्रवाल कविता पुरस्कार, रज़ा अवार्ड और वरिष्ठ कलाकारों हेतु राष्ट्रीय सांस्कृतिक फ़ेलोशिप। १९९५-९७ के दौरान प्रेमचन्द सृजनपीठ, उज्जैन की अध्यक्षता। तेजी की कविताएँ देश-विदेश की तेरह भाषाओँ में, और 'नीला' शीर्षक से एक उपन्यास और कई कहानियाँ पोलिश और अँग्रेज़ी में अनूदित हैं। उनकी अधिकांश किताबें वाणी प्रकाशन से छपी हैं।

अस्सी के दशक में तेजी ने ग्रामीण संस्था किशोर भारती से जुड़कर बाल-केन्द्रित शिक्षा के एक प्रयोग-धर्मी कार्यक्रम की परिकल्पना कर उसका संयोजन किया और इस सन्दर्भ में कई वर्ष जिला होशंगाबाद के बनखेड़ी ब्लाक के गाँवों में काम किया। इस दौरान शिक्षा सम्बन्धी विश्व-प्रसिद्ध कृतियों के अनुवादों की एक शृंखला का सम्पादन भी किया जो आगामी वर्षों में क्रमशः प्रकाशित होती रही। इससे पहले वे चण्डीगढ़ शहर के एक कॉलेज में अँग्रेज़ी की प्राध्यापिका थीं और १९९० में मध्य प्रदेश से लौटकर २००३ तक वापिस उसी कॉलेज में कार्यरत रहीं। वर्ष २००४ से नौकरी छोड़ मध्य प्रदेश में होशंगाबाद और इन दिनों भोपाल में आवास।

बाल-साहित्य के क्षेत्र में लगातार सक्रिय और एकलव्य, भोपाल, के लिए तेजी ने कई बाल-पुस्तकें भी तैयार की हैं।

२०१६-१७ के दौरान Institute of Advanced Study, Nantes, France, में फ़ेलोशिप पे रहीं जिसके तहत कविता और चित्रकला के अन्तर्सम्बन्ध पर अध्ययन और लेखन। प्राकृतिक पदार्थों से चित्र बनाने में विशेष काम और वानस्पतिक रंग बनाने की विभिन्न विधियों का दस्तावेज़ीकरण। अभी तक चित्रों की सात एकल और तीन समूह प्रदर्शनियाँ देश-विदेश में हो चुकी हैं।

कृतियाँ

यहाँ कुछ अन्धेरी और तीखी है नदी / तेजी ग्रोवर(1983), जैसे परम्परा सजाते हुए / तेजी ग्रोवर(1982), लो कहाँ साँबरी / तेजी ग्रोवर(1994) — तीनों कविता-सँग्रह।