भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

तेरी तस्वीर को धुँदला नहीं होने देंगे / गौहर उस्मानी

Kavita Kosh से
Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:54, 25 अगस्त 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौहर उस्मानी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरी तस्वीर को धुँदला नहीं होने देंगे
ज़िंदगी हम तुझे रुस्वा नहीं होने देंगे

सर पे हर लम्हा रहेंगे तिरे आँचल की तरह
तू ग़ज़ल है तुझे तन्हा नहीं होने देंगे

जिन मकानों से है मंसूब ख़ुदा की अज़्मत
उन मकानों में अँधेरा नहीं होने देंगे

जान जाती है चली जाए बला से लेकिन
हम मोहब्बत को तमाशा नहीं होने देंगे

जिन को साए में गुनाहों को पनाहें मिल जाएँ
उन फ़सीलों को अब ऊँचा नहीं होने देंगे

पार कर ले जो क़नाअत की हदों को 'गौहर'
इतना दामन को कुशादा नहीं होने देंगे