भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

थूं बुहारी काढ़ती / गौरीशंकर

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:19, 11 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौरीशंकर |अनुवादक= |संग्रह=थार-सप...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थूं बुहारी काढ़ती
दिखै
म्हूं आज कोसां-कोस
दूर बैठ्यो थकौ
थारी ओळ्यूं रै मिस
बाखळ मांय मंड्योड़ा मांडण देखूं।
म्हूं भळै
फेसबुक माथै सरच करूं
थारी ओळ्यूं रै मिस
बाखळ,
बुहारी,
मांडणा।