भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दंशित एहसास / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:51, 19 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शंकाओं के ज़हरीले वातावरण में
भयाक्रांत मन, घुटने लगता है
सामंतवादी संस्कारों के
दृष्टिदंश बहुत अपमान दे जाते हैं मित्र!
गांधी के बंदरों की तरह
आंख, कान, मुंह
बंद भले ही कर लिये जायें
हवा की सरगोशियां
खुशबू की तरह ही
बदबू का एहसास करा ही जाती है।
कितना मुश्किल है जीना
दंशित एहसासों पर
खारे आंसुओं को पीना
पिघले हुये सीसे को
कानों में सहना
नज़रों के दंश
आंखों पर झेलना
जलते हुये तीर
सांसों पर रोकना
और चुप रहना।