भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दरवाज़ा / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:29, 28 अप्रैल 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=तादेयुश रोज़ेविच |अनुवादक=अशोक व...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लाल शराब का एक प्याला
एक मेज़ पर टिका हुआ
एक अन्धेरे कमरे में
खुले दरवाज़े से
मैं देखता हूँ बचपन का एक दृश्यालेख
एक रसोईघर और एक नीली केतली
पवित्र ह्रदय
माँ की पारदर्शी छाया
बांग देता मुर्गा
एक सुडौल शान्ति में
पहला पाप
एक नन्हा सफ़ेद बीज
एक हरे फल में कोमल
कड़वा-सा
पहला शैतान गुलाबी है
और अपने गोलार्ध में घुमाता है
छींटदार रेशमी पोशाक में
रोशन दृश्यालेख में
एक तीसरा दरवाज़ा
खुलता है
और उसके पार धुँधलके में
पीछे की तरफ़
जरा सा बाएँ को
या फिर बीचोंबीच
मैं देखता हूँ
कुछ नहीं ।