भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्देसर था सज़द-ए-शामोसहर मेरे लिए / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:37, 15 जुलाई 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्देसर था सजद-ए-शामोसहर मेरे लिए।

दर्देदिल ठहरा दवा-ए-दर्देसर मेरे लिए॥


दर्देदिल के वास्ते पैदा किया इन्सान को।

ज़िन्दगी फिर क्यों हुई है, दर्देसर मेरे लिए॥


फ़ितरते-मजबूर को अपने गुनाहों पै है शक।

वा रहेगा कब तलक तौबा का दर मेरे लिए॥