भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

दवाओं से कहो जाकर, मरीजों पे असर डालो / अवधेश्वर प्रसाद सिंह

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:33, 19 दिसम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अवधेश्वर प्रसाद सिंह |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दवाओं से कहो जाकर, मरीजों पे असर डालो।
दुआएं संग ले जाकर, उसे मेरी उमर डालो।।

गरीबों की वज़ह से ही महल में रोशनी जलती।
अमीरों सुन जरा तुम भी, जमी पे मत नजर डालो।।

हवा तुम रुख नहीं बदलो, किसानों पे तरस खाओ।
कहीं ऐसा न हो की तुम किसी का घर बिखर डालो।।

जमाना था कभी ऐसा कि उसकी बात में दम था।
खुदा से कह जरा अब मत गरीबों पे कहर डालो।।

जवानी में कहीं तुम खुद मुसीवत में नहीं फसना।
जिधर देखो हसीनों को नजर तुम मत उधर डालो।।