भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दशहरे का मेला / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:51, 15 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |अनुवादक= |संग्रह=मेरे...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखा जी हमने दशहरे का मेला।

दशहरे के मेले में देखे तमाशे।
दशहरे के मेले में खाए बताशे।
दशहरे के मेले में की मौज-मस्ती।
मेला था जैसे उजालों की बस्ती।
देखा जी हमने दशहरे का मेला।

दशहरे के मेले में थे ऊँचे झूले।
चढ़े कोई उन पर तो अंबर को छू ले।
दशहरे के मेले में रौनक लगी थी।
सोता वहाँ कौन दुनिया जगी थी।
देखा जी हमने दशहरे का मेला।