Last modified on 28 अगस्त 2020, at 12:13

दश्त में यार को पुकारा जाए / विक्रम शर्मा

Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:13, 28 अगस्त 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विक्रम शर्मा |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

 
दश्त में यार को पुकारा जाए
क़ैस साहब का रूप धारा जाए

मुझको डर है कि पिंजरा खुलने पर
ये परिंदा कहीं न मारा जाए

दिल उसे याद कर सदा मत दे
कौन आता है जब पुकारा जाए

दिल की तस्वीर अब मुकम्मल हो
उनकी जानिब से तीर मारा जाए

लाश मौजों को हुक्म देती है
ले चलो जिस तरफ किनारा जाए

दिल तो है ही नहीं हमारा फिर
टूट जाए तो क्या हमारा जाए

ये तिरा काम है नये महबूब
डूबते शख़्स को उभारा जाए