भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिलरुबा तुंहिंजो जॾहिं दीदार थियो / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:38, 6 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=लीला मामताणी |अनुवादक= |संग्रह=सौ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिलरुबा तुंहिंजो जॾहिं दीदार थियो
ईअं लॻो ॼणु को वॾो इसरारु थियो
बादलनि बरसात आंदी वाह वाह
दिलि जो वीरानो फिरी गुजल़ार थियो
आॻ उदासीअ जी हुई चोधर फ़िज़ा
हाणे रंगत सां भरियो संसार थियो
दिलि त चाहियो, हालु तो सां ओरजे
पर ज़बान सां, कीन को इज़िहार थियो
हुसन तुंहिंजे जो सदा शेदाई मां
पर तुंहिंजो इक़िरार या इंकारु थियो
भाॻु मुंहिंजो ॼण त अॼु जाॻियो अची
हाणे ‘निमाणी’ जो रहणु दुशवार थियो
दिलरुबा तुंहिंजो जॾहिं दीदार थियो
ईअं लॻो ॼण को वॾो इसरारु थियो।