भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल्ली दिल और दिसंबर-दिसंबर / दीपिका केशरी

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:56, 13 अक्टूबर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दीपिका केशरी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यहां पिता का स्पर्श नहीं बचता
भाई की बेरुखी पुरानी है इस शहर से,
कुछ रिश्तों के संवाद
मौन की ओढ़नी ओढ़ लेती है
इस शहर में,
दिल्ली में दिल के झमेले है
थपेड़े हैं
पुराने इश्क का इत्र भी यहाँ
नई शीशी में बिकता है !
सुनो
ये दिल्ली भी दिसंबर की बेरूखी अपनाता है
ठीक वैसे ही जैसे एक दूसरे शहर से आई लड़की
यहांँ आकर दिल्ली हो जाती है !