भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल तो दिल है दिल की बातें / देवमणि पांडेय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:04, 27 जुलाई 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=देवमणि पांडेय }} Category:ग़ज़ल दिल तो दिल है दिल की बातें ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल तो दिल है दिल की बातें समझ सको तो बेहतर है

दुनिया की इस भीड़ में ख़ुद को अलग रखो तो बेहतर है


मोड़ हज़ारों मिलेगें तुमको , कई मिलेगें चौराहे

मंज़िल तक पहुँचाने वाली राह चुनो तो बेहतर है


क़दम क़दम पर यहाँ सभी को बस ठोकर ही मिलती है

थाम के मेरा हाथ अगर तुम संभल सको तो बेहतर है


ख़ामोशी भी एक सदा है अकसर बातें करती है

तुम भी इसको तनहाई में कभी सुनो तो बेहतर है


जाने कैसा ज़हर घुला है इन रंगीन फ़िज़ाओं में

प्यार की ख़ुशबू से ये मंज़र बदल सको तो बेहतर है