भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल दिल्ली और वही तुम्हारा मेरा दिसंबर / दीपिका केशरी

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:56, 13 अक्टूबर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दीपिका केशरी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये दिल्ली भी अजीब दिल्लगी करता है
सब कुछ है यहाँ
पर सब कुछ होते हुए भी कुछ नहीं है,
शोर के पीछे सन्नाटा है
सारे ताम झाम के पीछे नीली सी तमाम रातें हैं,
रंगीन पानी पे तैरता अकेलापन है
और धुंए में उङता खुशी गम का राग है,
रोज एक हूक उठती है मन में
हाय,ये शहर कितना अकेला है !
यहां के धूप में बहते अवसाद को स्पर्श करो तो
वो अवसाद
बिखर आता है चेहरे पे
और जब उस अवसाद को चूम लो आगे बढ़कर
तो वो भी चूम लेता है आगे बढ़कर,
इस शहर को थपकियों की जरूरत है
इस शहर की जरूरतें बढ़ दि गई है
ये शहर के दिल में अब भी एक बच्चा रहता है
जो बेवजह ही तुम्हारी याद दिलाता है !