Last modified on 14 फ़रवरी 2013, at 07:28

दीद / नीना कुमार

यह तेरा तस्सवुर; है नामुमकिन-ए-ज़िक्र जाना
तेरी हासिल-ए-दीद क्या है, एक नया हिज्र पाना
समझाने का सबब है- थोड़ा और उलझ जाना
जब दीवाने मिल गए तो क्यों है फ़िक्र में ज़माना