भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीवाली का गीत / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:04, 20 अगस्त 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश रंजक |अनुवादक= |संग्रह= रमेश र...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती पर दीप जले, अम्बर में तारे ।
                    दीवाली आई द्वारे ।।

मन्दिर में दूर आरती थमी
कुहरे की एक पर्त-सी जमी
देखना ! अन्धेरे से रोशनी न हारे ।
                    दीवाली आई द्वारे ।।

आँगन में दीप डोलने लगे
सोने का रंग घोलने लगे
एक नया भोर उगा साँझ के किनारे ।
                    दीवाली आई द्वारे ।।

कहीं जली पुलक-पुलक फुलझड़ी
बम छूटे, सर-सर चकई उड़ी
चन्द छन्द बोल गए दूधिया अँगारे ।
                    दीवाली आई द्वारे ।।

आओ हम बैर-भाव तोड़कर
मिल जाएँ राह-द्वेष छोड़कर
जलते हैं दीप सदा, स्नेह के सहारे ।
                    दीवाली आई द्वारे ।।