भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुनिया के लाख दुःख दूर लखी एक मुख / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:13, 24 मई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनिल शंकर झा |अनुवादक= |संग्रह=अहि...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुनिया के लाख दुःख दूर लखी एक मुख
पावी लै छी सब सुख झूठ नै बताय छी।
फूलोॅ के सुगंध रं प्रीत केरोॅ सब क्षण
मह-मह तन-मन ऐ सें ही कराय छी।
मदिर लहर पर फूलोॅ केरोॅ सेज पर
हाले-हाले गीत पर सुधि बिसराय छी।
प्रीत तोरोॅ संग लेली पैहलोॅ उमंग लेली
बार-बार देव लोक छोड़ी यहाँ आय छी॥