भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुनिया में वह बशर नहीं / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:27, 8 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल' |अनुवाद...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुनिया में वह बशर नहीं।
जिसमें कोई हुनर नहीं।।

मंजिल जिसके पास न हो,
ऐसा कोई सफ़र नहीं।।

दन्द-फन्द में नामाहिर,
उसकी सुख से बसर नहीं।।

क़दम सफलता चूमेगी,
ग़र कोशिश में कसर नहीं।।

सीख उसे देने से क्या?
जिस पर इसका असर नहीं।।

अगर-मगर में फँसने पर,
आसाँ रहती डगर नहीं।।