भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

दुरगती / रूपसिंह राजपुरी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:03, 18 अक्टूबर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजकाल सड़कां गी,
बड़ी है दुरगती।
आं पर चाल ज्यै,
कोई लुगाई गर्भवती।
तो असपताल जाण गी,
बीनै कोनी जरूरत।
बीच सड़क मैं,
होज्या बच्चै रो मुहूर्त।