भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"दु:ख भी मिटें / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
[[Category:हाइकु]]
 
[[Category:हाइकु]]
 
<poem>
 
<poem>
 +
61
 +
सत्ता का कुआँ
 +
कब किसका हुआ
 +
गिरा जो ,डूबा ।
 +
62
 +
थोड़ा-सा सुख
 +
सबको मिल जाए
 +
मन ये खिले।
 +
63
 +
दु:ख भी मिटें
 +
मिटें गिले- शिकवे
 +
स्वर्ग रच दें।
 +
64
 +
साँस आखिरी
 +
सबके भाव बने
 +
प्राण बाँसुरी ।
 +
65
 +
तुम्हारी याद-
 +
रोम-रोम में गूँजे
 +
बनके नाद ।
 +
66
 +
तुम्हारा रूप-
 +
ओस-बूँद पावन,
 +
सर्दी की धूप ।
 +
67
 +
तुम्हारे बैन-
 +
मधुर सामगान
 +
नया विहान।
 +
68
 +
तुम्हारा प्यार-
 +
कल-कल करती
 +
ज्यों जलधार्।
 +
69
 +
तुम्हारा माथ-
 +
छू लिया जो दो पल
 +
लौटें हैं प्राण।
 +
70
 +
तुम्हारा मन-
 +
कण-कण महका
 +
चन्दन-वन ।
 +
71
 +
तुम्हारा हास-
 +
धरा से नभ तक
 +
फैला उजास ।
 +
72
 +
तुम्हारे भाव-
 +
अमृत -सरिता में
 +
तिरती नाव ।
 +
73
 +
तेरा सम्बन्ध-
 +
पावन अनुबंध
 +
न टूटे कभी ।
 +
74
 +
सुख आ जाए
 +
बिटिया जो  मुस्काए
 +
माँ का आनन्द ।
 +
75
 +
पोर-पोर से
 +
मेरा आशीर्वचन
 +
हँसे आँगन ।
 +
-0-
 +
</poem>

07:45, 8 सितम्बर 2019 के समय का अवतरण

61
सत्ता का कुआँ
कब किसका हुआ
गिरा जो ,डूबा ।
62
थोड़ा-सा सुख
सबको मिल जाए
मन ये खिले।
63
दु:ख भी मिटें
मिटें गिले- शिकवे
स्वर्ग रच दें।
64
साँस आखिरी
सबके भाव बने
प्राण बाँसुरी ।
65
तुम्हारी याद-
रोम-रोम में गूँजे
बनके नाद ।
66
तुम्हारा रूप-
ओस-बूँद पावन,
सर्दी की धूप ।
67
तुम्हारे बैन-
मधुर सामगान
नया विहान।
68
तुम्हारा प्यार-
कल-कल करती
ज्यों जलधार्।
69
तुम्हारा माथ-
छू लिया जो दो पल
लौटें हैं प्राण।
70
तुम्हारा मन-
कण-कण महका
चन्दन-वन ।
71
तुम्हारा हास-
धरा से नभ तक
फैला उजास ।
72
तुम्हारे भाव-
अमृत -सरिता में
तिरती नाव ।
73
तेरा सम्बन्ध-
पावन अनुबंध
न टूटे कभी ।
74
सुख आ जाए
बिटिया जो मुस्काए
माँ का आनन्द ।
75
पोर-पोर से
मेरा आशीर्वचन
हँसे आँगन ।
-0-