भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूधन भरी तलावड़ी लोणी बांधी पाळ / निमाड़ी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:50, 21 जनवरी 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=निमाड़ी }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दूधन भरी तलावड़ी, लोणी बांधी पाळ
वहां भोळा धणियेर न्हावण करऽ
रनुबाई हुआ पणिहार
न्हावतज धोवतऽ मथो मथ्यो, कुणऽ घर जासां मेजवान,
कुणऽ घर अम्बा आमली, कुणऽ घर दाड़िम अनार,
ऊ घर सूखा केवड़ा हो, रनुबाई मेहका लेय।
दूर का अमुक भाई अरजकरऽ, उनऽ घर हुसाँ मेजवान।।