भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"दूसरा वनवास (कविता) / कैफ़ी आज़मी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति 11: पंक्ति 11:
  
 
धर्म क्या उनका है, क्या जात है ये जानता कौन
 
धर्म क्या उनका है, क्या जात है ये जानता कौन
घर ना जलता तो उन्हे रात में पहचानता कौन
+
घर ना जलता तो उन्हें रात में पहचानता कौन
 
घर जलाने को मेरा, लोग जो घर में आये
 
घर जलाने को मेरा, लोग जो घर में आये
  
शाकाहारी हैं मेरे दोस्त, तुम्हारे खन्ज़र
+
शाकाहारी हैं मेरे दोस्त, तुम्हारे ख़ंजर
तुमने बाबर की तरफ़ फ़ैंके थे सारे पत्थर
+
तुमने बाबर की तरफ़ फेंके थे सारे पत्थर
है मेरे सर की खता, ज़ख्म जो सर में आये
+
है मेरे सर की ख़ता, ज़ख़्म जो सर में आये
  
 
पांव सरयू में अभी राम ने धोये भी न थे
 
पांव सरयू में अभी राम ने धोये भी न थे
कि नज़र आये वहां खून के गहरे धब्बे
+
कि नज़र आये वहां ख़ून के गहरे धब्बे
 
पांव धोये बिना सरयू के किनारे से उठे
 
पांव धोये बिना सरयू के किनारे से उठे
 
राम ये कहते हुए अपने दुआरे से उठे
 
राम ये कहते हुए अपने दुआरे से उठे

15:49, 17 सितम्बर 2010 का अवतरण

यदि इस वीडियो के साथ कोई समस्या है तो
कृपया kavitakosh AT gmail.com पर सूचना दें

राम बनवास से जब लौटकर घर में आये
याद जंगल बहुत आया जो नगर में आये
रक्से-दीवानगी आंगन में जो देखा होगा
छह दिसम्बर को श्रीराम ने सोचा होगा
इतने दीवाने कहां से मेरे घर में आये

धर्म क्या उनका है, क्या जात है ये जानता कौन
घर ना जलता तो उन्हें रात में पहचानता कौन
घर जलाने को मेरा, लोग जो घर में आये

शाकाहारी हैं मेरे दोस्त, तुम्हारे ख़ंजर
तुमने बाबर की तरफ़ फेंके थे सारे पत्थर
है मेरे सर की ख़ता, ज़ख़्म जो सर में आये

पांव सरयू में अभी राम ने धोये भी न थे
कि नज़र आये वहां ख़ून के गहरे धब्बे
पांव धोये बिना सरयू के किनारे से उठे
राम ये कहते हुए अपने दुआरे से उठे
राजधानी की फज़ा आई नहीं रास मुझे
छह दिसम्बर को मिला दूसरा बनवास मुझे