भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देखऽ कि हीलि रहल नीम केर ठुहरी / धीरेन्द्र

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:21, 23 मई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखऽ कि हीलि रहल नीम केर ठुहरी
नहुँ-नहुँ कि डेग दिअय जेना नवकनियाँ
कते असार आ कत्ते पसार अछि
हटा लेलक हाट मने वसन्ता ई बनियाँ
कोइली अछि कुहकि रहल गबइत की होरी
वनक भाल देखह मीत पलाशक रोरी
स्वच्छ गगन मगन धरा उमगय जलाशय
बूझत की मीत हमर मोनक क्यो आशय
तीत-तीत मोन कि बिखरल अछि प्रीति लड़ी
सुखा गेल अंग-अंग भीजल ई गीत-लड़ी
लगइत बसात ई जेना अंगोर हो
शीतल ई जल मने जेना इन्होर हो
कनइतसन ओनाः लागय हमरा ई दुनियाँ