भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"देखा पंछी जा रहे हैं अपने बसेरों में / गौतम राजरिशी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: <poem>रचना यहाँ टाइप करें</poem>देख पंछी जा रहें अपने बसेरों में चल, हुई अ...)
 
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
<poem>रचना यहाँ टाइप करें</poem>देख पंछी जा रहें अपने बसेरों में
+
{{KKGlobal}}
 +
{{KKRachna
 +
|रचनाकार=गौतम राजरिशी
 +
|संग्रह=
 +
}}
 +
<poem>देख पंछी जा रहें अपने बसेरों में
 
चल, हुई अब शाम, लौटें हम भी डेरों में
 
चल, हुई अब शाम, लौटें हम भी डेरों में
  
पंक्ति 25: पंक्ति 30:
 
ग़म नहीं, शिकवा नहीं कोई जमाने से
 
ग़म नहीं, शिकवा नहीं कोई जमाने से
 
जिंदगी सिमटी है जब से चंद शेरों में
 
जिंदगी सिमटी है जब से चंद शेरों में
 +
</poem>

11:07, 19 सितम्बर 2009 के समय का अवतरण

देख पंछी जा रहें अपने बसेरों में
चल, हुई अब शाम, लौटें हम भी डेरों में

सुबह की इस दौड़ में ये थक के भूले हम
लुत्फ़ क्या होता है अलसाये सबेरों में

अब न चौबारों पे वो गप्पें-ठहाकें हैं
गुम पड़ोसी हो गयें ऊँची मुँडेरों में

बंदिशें हैं अब से बाजों की उड़ानों पर
सल्तनत आकाश ने बाँटी बटेरों में

देख ली तस्वीर जो तेरी यहाँ इक दिन
खलबली-सी मच गयी सारे चितेरों में

जिसको लूटा था उजालों ने यहाँ पर कल
ढ़ूँढ़ता है आज जाने क्या अँधेरों में

कब पिटारी से निकल दिल्ली गये विषधर
ये सियासत की बहस, अब है सँपेरों में

गज़नियों का खौफ़ कोई हो भला क्यूं कर
जब बँटा हो मुल्क ही सारा लुटेरों में

ग़म नहीं, शिकवा नहीं कोई जमाने से
जिंदगी सिमटी है जब से चंद शेरों में