भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देखें तमाम ज़ुल्म व सितम कुछ नहीं कहें / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:57, 27 जनवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem> देखें त...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखें तमाम ज़ुल्म व सितम कुछ नहीं कहें
गर बोल दें हुज़ूर तो हम कुछ नहीं कहें

बच्चों की तरह डांट के रखना दबाव में
वो आएं घर तो दीदा ए नम कुछ नहीं कहें

तुम उनको कर रहे हो डराने की कोशिशें
क्या मेरी तरफ़ एहले क़लम कुछ नहीं कहें

ये वक़्त ठीक अगर नहीं कहने के वास्ते
सब डायरी में कर दें रक़म कुछ नहीं कहें

तेरी तमाम बात सुनें सर झुका के हम
यानी तेरे जवाब में हम कुछ नहीं कहें