भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देवी गीत-लगत चईत महिनवा देबी जी / अवधी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:20, 29 अक्टूबर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

लगत चईत महिनवा देबी जी आई गईं भवनवा
मईया के मागिय में लाल लाल सिंदुरवा
चमचम चमके टिकुलिया
देबी जी आई गईं भवनवा
मईया के हथवा में लाल लाल चुडिया
चमचम चमके कंगनवा
देबी जी आई गईं भवनवा
मईया के अंगे लहंगा सोहेv
चमचम चमके चुनरिया
देबी जी आई गईं भवनवा
मईया के पैरों में पायल सोहे
चमचम चमके बिछुववा
देबी जी आई गईं भवनवा