भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोपहर का भोजन / कुमार विकल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:51, 8 सितम्बर 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार विकल |संग्रह= रंग ख़तरे में हैं / कुमार विकल }} ''' ('द...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

('दोपहर का भोजन' अमरकांत की प्रसिद्ध कहानी का नाम है)


दुख

‘दुख को सहना

कुछ मत कहना—

बहुत पुरानी बात है।


दुख सहना,पर

सब कुछ कहना

यही समय की बात है।


दुख को बना के एक कबूतर

बिल्ली को अर्पित कर देना

जीवन का अपमान है।

दुख को आँख घूर कर देखो

अपने हथियारों को परखो

और समय आते ही उस पर

पूरी ताक़त संचय करके

ऐसा झड़पो

भीगी बिल्ली—सा वह भागे

तुम पीछे, वह आगे—आगे।


दुख को कविता में रो देना

‘यह कविता की रात है’

दुख से लड़कर कविता लिखना

गुरिल्ला शुरुआत है।