भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"द्यूत या जुआ / मुंशी रहमान खान" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मुंशी रहमान खान |अनुवादक= |संग्रह= ...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

18:44, 12 अगस्त 2014 के समय का अवतरण

द्यूत पाप का बाप है माता लालच जान।
बंश दंभ छल तस्‍करी झूठ कपट अभिमान।।
झूठ कपट अभिमान क्रोध मद घात लगाए।
राजा नल अरु धर्मराज अस पल महं रंक बनाए।।
कहैं रहमान सदा तुम बचियो द्यूत पुराना भूत।
भूत लगै ओझा हरै नाश करै तुम्‍हें द्यूत।।