भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धन से बिकती डिग्री देख / भावना

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:22, 9 नवम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=भावना |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धन से बिकती डिग्री देख
ऐसा करके तू भी देख

घर के भीतर घर कितने
क्या असली क्या नकली देख

घर की बात गई बाहर
लुढ़की सर की पगड़ी देख

मेरे दुख के दर्पण में
सूरत -आभा अपनी देख

मस्जिद के स्वर से मिलता
है मंदिर की घंटी देख

जितने मुख उतनी बातें
दुनिया है तो कहती देख

नज़रें ऊंची रख लेकिन
पांव के नीचे धरती देख

किसके पीठ पड़े कोरे
किसकी उघड़ी चमड़ी देख