भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"धरमपुरा कितना खुश हाल / प्रभुदयाल श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

19:08, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

नीले जल से भरा लबालब
कितना प्यारा चंदन ताल
अमराई के संग झूमता
धरमपुरा कितना खुश हाल।

कक्का काकी दद्दा दादी
जैसे प्यारे सम्बोधन
जेठे स्याने सभी पूज्य हैं
छोटों का सब रखते ख्याल।

कोहा नीम आम और जामुन
वर्षा में ठिल-ठिल करते
अपनी ही मस्ती में डूबे
जैसे ठोंक रहे हों ताल।

छोटी-सी मड़िया में बैठे
भींटे पर हरदोल लला
पूज पूज कर दूल्हा देव को
वर और वधु सदा खुश हाल।

लालाजी की बाखर में है
शिव का मंदिर एक बना
जहाँ बिराजे भाँडेश्वर जी
बम बम भोले शंभू त्रिकाल।

सभी वर्ग जाति वालों का
सर्व धर्म संभाव यहाँ
आत्म ज्ञान से पूर्ण यहाँ के
दिप दिप करते ऊंचे भाल।