भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप के बारे में-1 / दिनेश डेका

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:30, 17 फ़रवरी 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKAnooditRachna |रचनाकार=दिनेश डेका |संग्रह=मेरे प्रेम और विद्रोह की …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: दिनेश डेका  » संग्रह: मेरे प्रेम और विद्रोह की कविताएँ
»  धूप के बारे में-1

मैंने कभी स्वीकारी नहीं
अन्धेरे की मेजबानी
अन्धकार का निमंत्रण है जैसे शूर्पनखा

अन्धकार यानी छोटी कोठरी की सीलनवाली माटी का फ़र्श
बेघर बच्चे की ठंडी रात, मरणा सन्न यक्ष्मा रोगी की ख़ून की उल्टी
हत्यारे का धारदार चाकू, किशोरी का गँवा हुआ कौमार्य

अन्धकार तो है मानो नरक के सैकड़ों-हज़ारों दूत
मैं हूँ जीवन
पूरी धरती की धूप।


मूल असमिया से अनुवाद : दिनकर कुमार