भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"धोबी के गीत / भोजपुरी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
|रचनाकार=अज्ञात
 
|रचनाकार=अज्ञात
 
}}
 
}}
 +
{{KKCatBhojpuriRachna}}
 
{{KKLokGeetBhaashaSoochi
 
{{KKLokGeetBhaashaSoochi
 
|भाषा=भोजपुरी
 
|भाषा=भोजपुरी
 
}}
 
}}
 
+
<poem>
कवना पोखरवा में झिलमिल पनिया कि कवना पोखरवा सेवार,<br>
+
कवना पोखरवा में झिलमिल पनिया कि कवना पोखरवा सेवार,
कवना पोखरवा में चेल्हवा मछरिया कि केहो बिगे महाजाल।<br>
+
कवना पोखरवा में चेल्हवा मछरिया कि केहो बिगे महाजाल।
राम पोखरवा में झिलमिल पनिया कि लछुमन पोखरवा सेवार,<br>
+
राम पोखरवा में झिलमिल पनिया कि लछुमन पोखरवा सेवार,
सीता पोखरवा में चेल्हवा मछरिया कि रावन फेंके महाजाल।<br>
+
सीता पोखरवा में चेल्हवा मछरिया कि रावन फेंके महाजाल।
लाल घोड़वा पर लाल चढ़ि अइले कि उजर घोड़वा भगवान,<br>
+
लाल घोड़वा पर लाल चढ़ि अइले कि उजर घोड़वा भगवान,
सोने पलकिया में सीता चढ़ि अइली कि चँवर डोलावे हनुमान।<br><br>
+
सोने पलकिया में सीता चढ़ि अइली कि चँवर डोलावे हनुमान।
 +
</poem>

14:50, 21 सितम्बर 2013 के समय का अवतरण

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कवना पोखरवा में झिलमिल पनिया कि कवना पोखरवा सेवार,
कवना पोखरवा में चेल्हवा मछरिया कि केहो बिगे महाजाल।
राम पोखरवा में झिलमिल पनिया कि लछुमन पोखरवा सेवार,
सीता पोखरवा में चेल्हवा मछरिया कि रावन फेंके महाजाल।
लाल घोड़वा पर लाल चढ़ि अइले कि उजर घोड़वा भगवान,
सोने पलकिया में सीता चढ़ि अइली कि चँवर डोलावे हनुमान।