भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नई औरत / पंखुरी सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नई औरत

वह क्षण भर भी नहीं
उसका एक बारीक़-सा टुकड़ा था बस,
जब लगाम मेरे हाथ से छूट गई थी,
और सारी सड़क की भीड़ के साथ-साथ
गाड़ियों के अलग-अलग हार्न की मिली जुली
चीख़ के बीचोंबीच,
अचानक ब्रेक लगने से घिसटकर रुकते टायरों के नीचे से,
लाल हो गई ट्रैफ़िक की बत्ती के ऊपर से,
चील की तरह, बाज की तरह,
तुम भी मेरे खुले कंधों पर झपट पड़े थे,
मैं दिखाऊंगी नहीं तुम्हें,
पर मेरे कंधों पर तुम्हारे पंजों की खरोंच के निशान हैं,
और क्यों रखूँ मैं इन्हें?
सिर्फ़ इसलिए कि ये तुम्हारे दिए हुए निशान हैं?
नहीं, मैं बताऊंगी नहीं तुम्हें,
पर मैं धो रही हूँ इन्हें,
दूब की नर्मी से,
ओस की ठंडक से,
धो रही हूँ तुम्हारे खुरों के निशान,
अपने कंधों पर से
दुर्घटना सड़क पर नहीं, मेरे अन्दर घटी है,
पर मैं बताऊंगी नहीं तुम्हें
अब तुम मेरे राजदार नहीं रहे...