भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नज़र आसूदा-काम-ए-रौशनी है / अब्दुल अहद 'साज़'

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:22, 24 मार्च 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नज़र आसूदा-काम-ए-रौशनी है
मिरे आगे सराब-ए-आगही है

ज़मानों को मिला है सोज़-ए-इज़हार
वो साअत जब ख़मोशी बोल उठी है

हंसी सी इक लब-ए-ज़ौक़-ए-नज़र पर
शफ़क़-ज़ार-ए-तहय्युर बन गई है

ज़माने सब्ज़ ओ सुर्ख़ ओ ज़र्द गुज़रे
ज़मीं लेकिन वही ख़ाकिस्तरी है

पिघलता जा रहा है सारा मंज़र
नज़र तहलील होती जा रही है

धुन्दलकों को अन्धेरे चाट लेंगे
कि आगे अहद-ए-मर्ग-ए-रौशनी है

बिखरते कारवाँ ये इर्तिक़ा के
सरासीमा सा ज़ौक़-ए-ज़िन्दगी है

मैं देखूँ तो दिखा दूँगा तुम्हें 'साज़'
अभी मुझ में बसीरत की कमी है