भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नज़्म 1 / सईददुद्दीन

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:03, 13 दिसम्बर 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई सख़्त फल काटते हुए
उस ने अपने ख़्वाब में
अपनी उँगली काट ली
जिस्म से अलाहिदा हो जाने वाली उँगली ने
रेत पर लकीरें बनाना शुरूअ कर दीं
कुछ अधूर नुक़ूश उभारे
फिर वो एक लख़्त भड़क उठी
सब्ज़ सुर्ख़ और दूधिया रौशनी निकालने के बाद
ये उँगली राख में तब्दील हो गई
राख से फूटने लगा
एक नन्हा सा पौदा
उस की नाज़ुक पत्तियों पर यूँ गुमान होता था
गोया शाख़ों से नाज़ुक नाज़ुक सी उँगलियाँ निकल रही हों
ये सब कुछ महज़ एक ख़्वाब था
ख़्वाब से जागने के बाद
वो संजीदगी से उस ख़्वाब के बारे में सोचता रहा
फिर हँस दिया
उस ने अपनी हथेली थपथपाई
ठीक उस जगह
जहाँ उस की उँगली ख़्वाब में अलाहिदा हो गई थी
वहाँ उँगली ही न थी
उस का सारा बदन धुँदलाने लगा
साथ ही
उस पौदे के नुक़ूश वाज़ेह होने लगे
जिस की नाज़ुक शाख़ों में
नाज़ुक नाज़ुक उँगलियाँ निकल रही थीं