भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नभगंगा / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:39, 8 सितम्बर 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

16
नभगंगा की
माँग भरके खिला
 दूल्हा -गगन ।
17
नीलम नभ
झील में डुबकियाँ
खूब नहाए।
18
नीलम -प्याला
सोमरस माँगता
रोज चाँद से ।
19
पाखी चहके
नभ हुआ मुखर
सन्ध्या-वन्दन ।
20
फैला गगन
चीलें मार झपट्टा
कबड्डी खेलें।
21
बाहें फैलाए
है व्याकुल अम्बर
मेघ न आए ।
22
भरें कुलाँचे
न थकें तनिक भी
मेघा-हिरना ।
23
मेघों के हाथी
चिंघाड़ें टकराएँ
अम्बर काँपे ।
24
व्योम अखाड़े
ढोल तिड़क-धुम्म
मेघों की कुश्ती ।
25
सबको देखे
छुप-छुप करके
लम्पट नभ ।
26
उड़ा ले गई
अधूरे रिश्ते- नाते
बहकी हवा ।
27
उमड़े आँसू
पोंछकर चल दी
सहेली हवा ।
28
कहती हवा
नहीं कोई पराया
बहते चलो।
29
चंचल हवा
मरोड़े टहनियाँ
छेड़ती गाछ ।
30
छूकर तन
दे गई थी पवन
उनकी पाती।