भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाव / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:30, 14 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=स्वप्निल श्रीवास्तव |अनुवादक= |सं...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने एक नाव बनाई
नदी ने कहा -- मेरे साथ चलो
साथ चलते-चलते हम पहुँच
जाएँगे समुन्दर

समुन्दर में पानी की दुनिया है
तुम्हें मिल जाएगा घर
और मुझे मुक्ति मिल जाएगी
मैं अपना घर-द्वार छोड़ कर
पानी के साथ उसके घर गया

पानी ने कहा -- देखो दूर-दूर तक
फैला हुआ है, मेरा साम्राज्य
क्या तुम पानी बनना चाहोगे ?
उसे क्या पता पानी मेरी आँखों में है
उसमें डूब सकती हैं कई नावें