भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ना शिकाइति कुछो बाटे उनसे / रामरक्षा मिश्र विमल

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:37, 4 अगस्त 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामरक्षा मिश्र विमल |अनुवादक= |सं...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ना शिकाइति कुछो बाटे उनसे
दोष बा भागिए के हमार हो।

प्यार के हाथ जब जब बढ़वलीं
नेह के गीत हियरा कढ़वलीं
नाहिं पवलीं अघाए कबहुँओ
तार टूटल हिया के हजार हो।

लाख चहलीं कि उनके भुलाईं
दीप सुधिया के हम ना जराई
बाकि' अजबे चढ़ल रंग आके
होत जाता दरद चटकार हो।

आजु नयना ना पानी बहाइत
कंठ छने छने ना रूँधि पाइत
ना उमिरिया बिरह में जरइतीं
टूटि जाइत भरम जे हमार हो।

प्यार पाके कबो ना जुड़इलीं
जिंदगी भर हमेशा पिरइलीं
बाकि'रहबार अब ना ई टूटी
छूटी अब ना विमल के बजार हो।