Last modified on 13 मार्च 2018, at 22:59

निकल न पाया कभी उसके दिल से डर मेरा / अनिरुद्ध सिन्हा

Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:59, 13 मार्च 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनिरुद्ध सिन्हा |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

निकल न पाया कभी उसके दिल से डर मेरा
इसीलिए तो जलाया है उसने घर मेरा

तमाम रात जो तुम बेखुदी में रहते हो
तुम्हारे दिल पे है शायद अभी असर मेरा

मैं उस गली में अकेला था इसलिए शायद
हवाएँ करती रहीं पीछा रात भर मेरा

न जाने कौन सी उम्मीद के सहारे पर
ग़मों के बीच भी हँसता रहा जिगर मेरा

नई सुबह के नए इंतज़ार से पहले
खुला हुआ था तेरी याद में ये दर मेरा