Last modified on 6 अगस्त 2008, at 03:05

निकष / महेन्द्र भटनागर

Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:05, 6 अगस्त 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=महेन्द्र भटनागर |संग्रह=संकल्प / महेन्द्र भटनागर }} किस...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

किसी मधु-गन्धिका के

प्यार की ऊष्मा-किरण

मुझको

छुए तो --

मोम हूँ !

किसी मुग्धा

चकोरी के

अबोध

अधीर

भटके

दो नयन

मुझ पर

पड़ें तो --

सोम हूँ !