भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"निरभ्र नभ / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
(इसी सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
[[Category: ताँका]]
 
[[Category: ताँका]]
 
<poem>
 
<poem>
33
+
36
 
निरभ्र नभ
 
निरभ्र नभ
 
शैलशृंग चूमते
 
शैलशृंग चूमते
पंक्ति 12: पंक्ति 12:
 
दो घूँट मिल जाएँ
 
दो घूँट मिल जाएँ
 
तो तपन बुझाएँ ।
 
तो तपन बुझाएँ ।
34
+
37
 
मोती- सा मन
 
मोती- सा मन
 
बरसों था सँभाला  
 
बरसों था सँभाला  
पंक्ति 18: पंक्ति 18:
 
कुछ निपट अंधे,
 
कुछ निपट अंधे,
 
अकर्ण साथ बँधे।  
 
अकर्ण साथ बँधे।  
35
+
38
 
काई -सी छँटी
 
काई -सी छँटी
 
अपनों की भीड़ भी
 
अपनों की भीड़ भी
पंक्ति 24: पंक्ति 24:
 
एक तेरा आँचल
 
एक तेरा आँचल
 
एकमात्र सम्बल।
 
एकमात्र सम्बल।
36
+
39
 
तोड़ने चले
 
तोड़ने चले
 
जीवन के घरौंदे
 
जीवन के घरौंदे
पंक्ति 30: पंक्ति 30:
 
पैरों तले रौंदने
 
पैरों तले रौंदने
 
खुद  ही मिट गए।
 
खुद  ही मिट गए।
37
+
40
 
चले जाएँगे,
 
चले जाएँगे,
 
याद यह रखना
 
याद यह रखना
पंक्ति 36: पंक्ति 36:
 
तुम लाख रौंदना
 
तुम लाख रौंदना
 
फिर उग आएँगे।
 
फिर उग आएँगे।
 +
41
 +
'''गुलाबी नभ'''
 +
'''करतल किसी का'''
 +
'''पढ़ा औचक'''-
 +
'''नाम था लिखा मेरा'''
 +
'''अग-जग उजेरा।
 +
'''
 
<poem>
 
<poem>

22:42, 12 सितम्बर 2019 के समय का अवतरण

36
निरभ्र नभ
शैलशृंग चूमते
प्रतीक्षातुर
दो घूँट मिल जाएँ
तो तपन बुझाएँ ।
37
मोती- सा मन
बरसों था सँभाला
पीस ही डाला
कुछ निपट अंधे,
अकर्ण साथ बँधे।
38
काई -सी छँटी
अपनों की भीड़ भी
छूटा नीड़ भी
एक तेरा आँचल
एकमात्र सम्बल।
39
तोड़ने चले
जीवन के घरौंदे
ज्वार -से उठे
पैरों तले रौंदने
खुद ही मिट गए।
40
चले जाएँगे,
याद यह रखना
अंकुर हम
तुम लाख रौंदना
फिर उग आएँगे।
41
गुलाबी नभ
करतल किसी का
पढ़ा औचक-
नाम था लिखा मेरा
अग-जग उजेरा।