भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निर्द्वन्द्व / मधु शर्मा

Kavita Kosh से
Sumitkumar kataria (चर्चा) द्वारा परिवर्तित 13:44, 21 फ़रवरी 2008 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं छू कर पाना चाहती हूँ

ठोस इस अंधकार में

रूप, रस और गंध के बरअक्स

एक स्थान

जिसके समय में

कुहनी टेक कर बैठे हैं सपने

और कोई आधार नहीं

उन्हें उठा देने का ।