भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निष्ठुर नदी / इराक्ली ककाबाद्ज़े / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निष्ठुर नदी
हमारे गांव की,

बहा कर ले गई लाश
बचपन के मेरे प्यार की

लकड़ी की खपची की तरह...

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र

लीजिए, अब इसी कविता का जार्जियाई भाषा से अँग्रेज़ी अनुवाद पढ़िए
              Irakli Kakabadze

The harsh river
Of our village,
Washed away the corpse
Of my childhood love
Like a wood chip . .

Translated from Georgian by Mary Childs