भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नींद न आने की स्थिति में लिखी कविता: पाँच / शरद कोकास

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:49, 1 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शरद कोकास |संग्रह=गुनगुनी धूप में...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
कितना मुश्किल होता है
नींद के बारे में सोचना
और नींद का न आना
 
नींद के स्थान पर
तुम्हें रखूँ
तब भी यही बात होगी
 
मैंने
नींद न आने का कारण
खोज लिया है
मैं नींद से बहुत प्यार करता हूँ।