भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नींद / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:05, 17 मई 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाने क्यों काली-काली कोयलों को
आजकल नींद नहीं आती --
आधी-आधी रात कर्कश स्वर में
समूह में चिल्लाती हैं
एक बस्ती से दूसरी बस्ती !

जैसे उनके बाप के पेड़ कट गए हो
पंचम स्वर बासी पड़ गया है
या एक-आध बिखरे पेड़ डराने लगे है
या हमारे दौर में चाँद सर पीट रहा है ।

सो नहीं पातीं दिन भर कलह में
अतृप्त चाह छिपकर रहने की जददोजहद
प्रतिशोध भरा कंठ हो गया है
जाने क्यों मुझे भी नींद नहीं आती ।