भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीरव में रव हूँ मैं / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:28, 18 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हवा हूँ हवा मैं
नीरव में रव हूँ मैं
कलरव हूँ पंछियों में
पेड़ों की पत्तियों में
खेतों की बालियों में
सौरभ सुगंधियों में
मेरा ही वास है।
मेरा ही हास है
मेरे उल्लास को
दिल में उतार लो
बांहे पसार कर
मुझको स्वीकार लो
एक आवाज़ देकर
जीवन को साज देकर
मैं लौट जाऊंगी
बेजान चुप्पियों में गुनगुन
कर आऊंगी।