भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"न जाने वह किस बात पर ऐंठा है / कविता भट्ट" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
<poem>
 
<poem>
  
 +
सच- पीड़ा से कराहते पहाड़ों का
 +
रोती नदियों-सिसकती घाटियों का दर्द-
 +
खेतों से पेट न भरने का
 +
बर्तनों-गागरों के प्यासे रहने का
 +
जानकर भी अनजाना-सा बैठा है
 +
न जाने वह किस बात पर ऐंठा है?
 +
 +
सच- सर्दी में धधकते वनों का
 +
बिना रोपे ही सूखे उपवनों का
 +
खाली होते पंचायती स्कूलों का
 +
सूखते झरनों गुम बुराँस फूलों का,
 +
 +
जानकर भी अनजाना सा बैठा है
 +
न जाने वह किस बात पर ऐंठा है?
 +
 +
सच- पहाड़ी घरों के खाली होने का
 +
वीरान आँगन वानर-राज होने का
 +
जाल बुनती सड़कों के नारों का
 +
बिकते मूल्यों, बिकते झूठे वादों का
 +
 +
जानकर भी अनजाना-सा बैठा है
 +
न जाने वह किस बात पर ऐंठा है? 
  
 
</poem>
 
</poem>

02:42, 29 जून 2019 के समय का अवतरण


सच- पीड़ा से कराहते पहाड़ों का
रोती नदियों-सिसकती घाटियों का दर्द-
खेतों से पेट न भरने का
बर्तनों-गागरों के प्यासे रहने का
जानकर भी अनजाना-सा बैठा है
न जाने वह किस बात पर ऐंठा है?

सच- सर्दी में धधकते वनों का
बिना रोपे ही सूखे उपवनों का
खाली होते पंचायती स्कूलों का
 सूखते झरनों गुम बुराँस फूलों का,

जानकर भी अनजाना सा बैठा है
न जाने वह किस बात पर ऐंठा है?

सच- पहाड़ी घरों के खाली होने का
वीरान आँगन वानर-राज होने का
जाल बुनती सड़कों के नारों का
बिकते मूल्यों, बिकते झूठे वादों का

जानकर भी अनजाना-सा बैठा है
न जाने वह किस बात पर ऐंठा है? 