भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"न मक़ामात न तरतीब-ए-ज़मानी अपनी / अब्दुल अहद 'साज़'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

16:33, 24 मार्च 2020 के समय का अवतरण

न मक़ामात न तरतीब-ए-ज़मानी अपनी
इत्तिफ़ाक़ात पे मब्नी है कहानी अपनी

जिस्म सी जाती है तह-ए-हर्फ़ किसी कर्ब की मौज
थम के रह जाती है लफ़्ज़ों की रवानी अपनी

फैल जाती थी समाअत की ज़मीनों में नमी
थी कभी तर-सुख़नी आब-रसानी अपनी

लाख तुम मुझ को दबाओ मैं उभर आऊँगा
सतह हमवार किए रहता है पानी अपनी

माजरा रूह की वहशत का निजी है ऐ 'साज़'
आगे रूदाद नहीं हम को सुनानी अपनी