भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पंछी चहकें / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:57, 7 सितम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

7
पंछी चहकें
आकर नित द्वार
रिश्ता निभाएँ
मुट्ठी भर दाना पा
मधुर गीत गाएँ ।
8
दो बूँद जल
कटोरी का हैं पीते
बैठ मुँडेर
मधुर गीत गाते
शीतल कर जाते ।
9
खूँटी से बँधी
गैया जब रँभाए,
‘दाना -पानी दो’-
सन्देसा पहुँचाए
खुशियाँ बरसाए ।
10
गली का सही
पक्का है चौकीदार
दो टूक खाए
मुहल्ला सोता रहे
इसे नींद न आए ।
11
क़ैद है मैना
सोने के पिंजरे में
भूली है गीत
बिसुरे दिन रात
याद आए जो मीत ।
12
जीवन-रस
छनकरके बहा
बाकी क्या रहा-
केवल तलछ्ट
ईर्ष्या , छल-कपट ।