भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पढ़ी हथेली आपकी / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:00, 14 मई 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


116
रहे उम्र भर संग में , मन से कोसों दूर।
साथ हुए ना दो घड़ी,किसका कहें क़ुसूर।।
117
पढ़ी हथेली आपकी ,जाना अपना भाग
हर रेखा के छोर तक, उमगा था अनुराग।
118
बालसुलभ मुस्कान में, छपे हज़ारों गीत ।
सब गीतों का सार था, ‘तुम मेरे मन मीत’॥
119
ग़म की चादर फेंक दो , जब अपने हों साथ।
तन -मन जब डगमग करे,कसकर पकड़ो हाथ।
120
कुछ भी तो माँगा नहीं, न धन, नहीं सम्मान।
उनके अधरों पर खिले,सदा मधुर मुस्कान।।
121
जीवन की मरुभूमि में,जब बरसे अंगार।
मुझे बचाने आ गए, बन तुम सुखद बयार।।
122
रोम- रोम को सींचती, वाणी की जलधार।
वासन्ती हर पल हुआ,पाकर तेरा प्यार।।
123
घिरी घटाएँ ताप की,बाँधो ऐसी डोर।
प्रभुवर ! मेरे प्रेम को,देना सुखमय भोर ।।
124
हर लेना हर पीर को,सुख ले आना पास।
शीतल मन -मंदिर करो,तुम पर ही विश्वास।।
125
धन, दौलत माँगा नहीं , न यश , नहीं सम्मान।
देना मन के मीत को ,केवल सुख का दान।।
126
नर -नारी के भेद से,ऊपर होता प्यार।
भोर- साँझ सब एक हैं,उजियारे के द्वार।
127
खुशबू हर पल आ सके,खोले थे सब द्वार।
पत्थर बरसे हर घड़ी,घायल हर मनुहार।।
128
जब तक तन में प्राण हैं,जीवन की है आस।
सभी द्वार पर बाँटना,सब दिन हमें उजास।।
129
पुर्ज़ा-पुर्ज़ा ज़िन्दगी,होती है दिन रात ।
तुम बोलो कितना सहें,हर पल के आघात।।
130
निर्मल नाज़ुक काँच-सा,अपना मन था यार।
सहता कैसे हर घड़ी, पाषाणों के वार।।